SP-BSP गठबंधन ही नहीं यूपी के मिशन-2019 में BJP के सामने हैं 8 चुनौतियां

0Shares

2019 लोकसभा चुनाव (2019 Loksabha Election) में बीजेपी (BJP) की डगर सपा-बसपा के गठबंधन (SP-BSP coalition) के बाद अब और भी कठिन होने जा रही है। केन्द्र व राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के प्रचार में कमी, अपनी सरकार में उपेक्षा से क्षुब्ध कार्यकर्ता, कर्जमाफी का असर न दिखना, सांसद और विधायक के बीच सामंजस्य का अभाव,  मंत्रियों की कार्यकर्ताओं से दूरी, कुछ मंत्रियों और उनके निजी स्टाफ के कदाचरण की शिकायतें, एससी-एसटी एक्ट में संशोधन से सवर्ण वर्ग में नाराजगी, सहयोगी दलों का असहयोगात्मक रवैया और छुट्टा जानवरों से खेती की बरबादी। भाजपा के लिए इन चुनौतियों से निपट पाना आसान नहीं है।

1- राम मंदिर मुद्दे पर सहयोगी संगठन नाराज 
राम मंदिर मुद्दे पर सरकार द्वारा अध्यादेश लाने की चर्चा तो खूब हुई लेकिन बाद में सरकार ने इस मुद्दे पर अध्यादेश लाने की बात को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का इंतजार करने को कहा है। इससे विहिप व अन्य हिंदू संगठन खिन्न बताये जाते हैं।

अनुप्रिया और राजभर आज तय करेंगे 2019 की चुनावी रणनीति

2- कार्यकर्ता नाराज  
पहले लोकसभा फिर 2017 विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत पाने वाली भाजपा 10 महीने बाद ही गोरखपुर, फूलपुर व कैराना लोकसभा सीट व नूरपुर विधानसभा उपचुनाव हार गई। प्रदेश में 15 सालों बाद सरकार बनाने के लिए जीजान से जुटे निचले स्तर के तमाम कार्यकर्ता सरकार में अपनी उपेक्षा से खिन्न होकर घर बैठ गए।

बिहार: सीट बंटवारे को लेकर महागठबंधन की बैठक तेजस्वी के आवास पर आज

3- सरकारी योजनाओं का जमीनी प्रचार नहीं
केन्द्र व राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ तीन करोड़ लोगों को मिलने के दावे तो भाजपा ने बहुत किए, लेकिन प्रचार-प्रसार की कमी के कारण पार्टी लाभार्थियों को अभी तक सामने नहीं ला पाई। न तो सरकारी विभाग और न ही पार्टी के कार्यकर्ता उन्हें ढूंढते नजर नहीं आ रहे हैं।

शिवसेना को शाह की चेतावनी, अगर गठबंधन नहीं तो सहयोगियों को मिलेगी हार

4- सांसद-विधायकों का टकराव
प्रदेश के 30 ऐसे संसदीय क्षेत्र हैं, जहां भाजपा के सांसदों और विधायकों के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है। सांसदों और विधायकों में आपसी तालमेल के अभाव के कारण क्षेत्र में विकास के काम बाधित हो रहे हैं। यही नहीं इस बात का जनता के बीच संदेश अच्छा नहीं जा रहा है।

PM को चिट्ठी लिख पवार ने बताया गन्ना किसानों के आत्महत्या करने का कारण

5- मंत्रियों व उनके निजी स्टाफ का कदाचरण
कुछ मंत्रियों और उनके निजी स्टाफ के कदाचरण की चर्चाओं ने भी अपने को ‘पार्टी विद द डिफरेन्स’ कहने वाली भाजपा पर छीटें डाली हैं। मंत्रियों के निजी स्टाफ के लोग घूस मांगने के आरोप में जेल जा रहे हैं।

SP-BSP गठबंधन के बाद लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने बनाई ये ‘रणनीति’

6- एससी-एसटी एक्ट में संशोधन से परांपरागत वोट बैंक पर असर
ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य व कायस्थ भाजपा के समर्थक माने जाते हैं। एससी-एसटी एक्ट में संशोधन की वजह से भाजपा के इस परम्परागत वोट बैंक में भी नाराजगी दिख रही है।

NDA को लोकसभा चुनाव में बहुमत से 15 सीटें मिल सकती है कम: सर्वे

7- छुट्टा जानवरों से किसान परेशान
प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद अवैध स्लाटर हाउस तो बंद कर दिए गए, लेकिन गोवंश के पुनर्वास की स्थायी व्यवस्था न होने से छुट्टा जानवर किसानों की फसल को रौंदने लगे हैं। भाजपा के विधायकों ने भी विधानसभा में यह मुद्दा उठाया।

मिशन 2019 : पीएम मोदी और अमित शाह चुनाव तक यूपी को मथेंगे

8- सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट में देरी 
भाजपा के दोनों सहयोगी दल अपना दल की प्रमुख अनुप्रिया पटेल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के ओमप्रकाश राजभर भी सरकार और पार्टी में अपनी उपेक्षा का आरोप लगा रहे हैं। सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट न लागू होने से ओमप्रकाश राजभर ऐसे सहयोगी तो नाराज हैं ही, इसके साथ ओबीसी वर्ग के पार्टी से छिटकने का संकट बना हुआ है।

123total visits,1visits today

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पीएम मोदी ने ट्रंप से फोन पर की बात, अफगानिस्तान समेत इन मुद्दों पर हुई चर्चा

Tue Jan 8 , 2019
2019 लोकसभा चुनाव (2019 Loksabha Election) में बीजेपी (BJP) की डगर सपा-बसपा के गठबंधन (SP-BSP coalition) के बाद अब और भी कठिन होने जा रही है। केन्द्र व राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के प्रचार में कमी, अपनी सरकार में उपेक्षा से क्षुब्ध कार्यकर्ता, कर्जमाफी का असर न दिखना, सांसद और विधायक के बीच […]
2615320total sites visits.

LIVE NEWS

Breaking News

महत्वपूर्ण खबर

सीबीएसई ने एग्जाम सेंटर में एंट्री के नाम पर होने वाले खेल को रोकने के लिए उठाया ये कदम

कोरोना लॉकडाउन में यात्रियों की भीड़ कम करने को सरकार नहीं चला रही कोई स्पेशल ट्रेन

परिवार के लिए छोड़ी थी पढ़ाई, अब 91 की उम्र में डिप्लोमा किया

अब 332 नहीं बल्कि 338 खिलाड़ियों की लगेगी बोली, जानिए कौन से छह नए नाम लिस्ट में जुड़े

अंदर तक झकझोर के रख देगी रानी मुखर्जी की फिल्म ‘मर्दानी 2’

Live Updates COVID-19 CASES