दिल्ली अग्निकांड में 43 की मौत, राहत कार्य में जुटी NDRF टीम, मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिए जांच के आदेश

0Shares

दिल्ली के रानी झांसी रोड पर अनाज मंडी स्थित एक फैक्ट्री में रविवार सुबह लगी भीषण आग में अब तक 43 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। जबकि करीब दो दर्जन से अधिक लोगों को राजधानी के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। आग इतनी भीषण थी कि मौके पर दमकल की 30 गाड़ियों को तैनात करना पड़ा। अग्निशमन विभाग के कर्मियों ने 50 से ज्यादा लोगों को बचाया है। आग में झुलसे अन्य लोगों को दिल्ली के एलएनजेपी, सफदरजंग, आरएमएल और हिंदू राव हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। फायर ब्रिगेड और दिल्ली पुलिस की टीमें अभी भी लोगों को घटना स्थल से बाहर निकालने में जुटी हुई हैं। नेशनल डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स की एक टीम घटना स्थल पर पहुंच गई है। फिल्मिस्तान इलाके में ही शनिवार को प्लास्टिक की पिचकारी बनाने वाली एक फैक्ट्री में आग लगी थी। इस इलाके में 24 घंटे के अंदर आग की यह दूसरी घटना है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल घटना स्थल पर पहुँचे। उन्हाेंने इस आग की घटना को भयावह बताया और हादसे की मजिस्ट्रेट से जांच कराने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जांच रिपोर्ट एक हफ्ते में सौंपने का आदेश दिया। उन्होंने हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के लिए 10-10 लाख रुपए मुआवजे का ऐलान किया।

दिल्ली अग्निशमन सेवा के एक अधिकारी ने बताया कि आग लगने की जानकारी सुबह पांच बजकर 22 मिनट पर मिली जिसके बाद दमकल की 30 गाड़ियों को घटनास्थल पर भेजा गया। दिल्ली के डिप्टी फायर चीफ ऑफिसर सुनील चौधरी ने घटना के बारे में जानकारी देते हुए कहा, ‘आग 600 वर्ग फुट के कुल क्षेत्र में लगी। अंदर बहुत अंधेरा था। आग एक फैक्ट्री में लगी जिसमें स्कूल बैग्स, बॉटल्स और अन्य तरह की चीजें स्टोर की गईं थी।’चौधरी ने बताया कि आग पर पूरी तरह काबू पा लिया गया है। जब आग लगी उस वक्त फैक्ट्री के अंदर करीब 50 लोग मौजूद थे। यह फैक्ट्री आवासीय क्षेत्र में चलाई जा रही थी।

121total visits,2visits today

1988770total sites visits.
Hello
Can We Help You?
Powered by