RRB Group D भर्ती 2019: दिल्ली में छह दिन से भूख हड़ताल पर बैठे दिव्यांगों की तबीयत बिगड़ी

0Shares

आज यानी मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय विकलांग दिवस ( International Day of Disabled Persons ) है लेकिन रेलवे की ग्रुप डी की भर्तियों ( RRB Group D Recruitment ) में कथित धांधली के खिलाफ सैकड़ों दिव्यांग मंडी हाउस चौराहे पर छह दिन से भूख हड़ताल कर रहे हैं। दिव्यांगों की हड़ताल सोमवार को भी जारी रही। ठंड के थपेड़ों के बीच भूखे पेट जमीन पर सोने की वजह से कई छात्र-छात्राओं की तबीयत खराब हो गई और उन्हें राम मनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचाया गया है। प्रदर्शनकारियों में देश के अलग-अलग राज्य से आए हुए दिव्यांग अभ्यर्थियों का आरोप है कि भर्तियों में धांधली हुई है लेकिन रेलवे ने अभी तक जांच का आश्वासन तक नहीं दिया है। प्रस्तुत है दिव्यांगों की पीड़ा पर हेमवती नंदन राजौरा की रिपोर्ट।

दर्द छलका
रो पड़े मंगल- आखिर जांच कराने में दिक्कत क्या है 

मंगल बिहार के आरा जिले से रेलवे की परीक्षा में कथित धांधली के खिलाफ प्रदर्शन में शामिल होने के लिए ट्रेन से 22 घंटे का सफर तय कर दिल्ली पहुंचे हैं। उनके पिता चाय की दुकान चलाते हैं। मंगल के चार भाई और तीन बहनें हैं । दिव्यांग मंगल पिछले सात दिनों से धरना स्थल पर खुले आसमान के नीचे बैठे हैं। रविवार शाम को अचानक उन्हें चक्कर आ गया और वह बेहोश होकर गिर गए। साथियों ने तुरंत राम मनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचाया। उसके बाद उन्हें गंगाराम अस्पताल भेज दिया गया। डॉक्टरों का कहना है कि वे लगातार ठंड और ओंस के बीच बीच सोने की वजह से बीमार हो गए। मंगल ने लगभग रोते हुए कहा कि वे बस अपना हक मांग रहे हैं लेकिन वह भी नहीं मिल रहा। आखिर जांच कराने में क्या दिक्कत है।

प्रमोद बोले, छह दिन से नहीं खाया तब भी कहां कोई सुन रहा 
गुजरात के सूरत से आए प्रमोद भगत छह दिन से भूखे हैं। जिद है कि भर्ती में कथित धांधली की जांच हो। रविवार देर रात वह बेहोश हो गए। उन्हें राम मनोहर लोहिया में भर्ती कराया गया। फिर अगले दिन उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। प्रमोद भगत ने बताया कि वे बीकॉम करने के बाद पिछले चार साल से इस परीक्षा की तैयारी कर रहे थे। उनके पिताजी किसान हैं और घर में तीन भाई और दो बहनें हैं। पिताजी परिवार का खर्च काटकर उन्हें कोचिंग करा रहे थे। लेकिन भर्ती में धांधली की गई और परिणाम में उनका नाम नहीं आया। उन्होंने कहा कि छह दिन से भूखा हूं लेकिन तब भी कोई हमारी बात नहीं सुन रहा है।

भावना ने कहा, न्याय मिलने तक सबकुछ सहन करेंगे
मध्यप्रदेश के भोपाल से आईं भावना की आंखों में आंसू आ गए जब वह पिछले छह दिनों से ठंड में खुले आसमान के नीचे ठिठुरकर भूख हड़ताल करने की बात बता रही थीं। भावना ने कहा कि उनके पिता ड्राइवर हैं और बड़ी मुश्किल से पैसे बचाकर उन्हें छह महीने तक कोचिंग कराई लेकिन जब उन्हें पता चला कि रेलवे भर्ती में बड़े स्तर पर हेरफेर हुआ है तो वह परेशान हो गईं। भावना ने कहा कि इसके बाद वह पापा से न्याय के लिए लड़ने की बात कहकर दिल्ली आ गईं। उन्होंने बताया कि छह दिन से सड़क पर जमीन पर बैठ रही हैं। रात में ओंस से पूरी चादर गीली हो जाती है। वह कहती हैं, हम सबकुछ सहेंगे लेकिन न्याय मिलने तक नहीं हटेंगे।

38total visits,3visits today

1508651total sites visits.
Hello
Can We Help You?
Powered by