किडनी के मरीजों को मिलेगी घर बैठे डायलिसिस की सुविधा

0Shares

किडनी के मरीजों को अब डायलिसिस की सुविधा के लिए दूर बड़े शहर नहीं जाना पड़ेगा। स्वास्थ्य विभाग उनके घर पर पेरिटोनियल डायलिसिस सेवा उपब्ध कराएगा। प्रधानमंत्री राष्ट्रीय डायलिसिस कार्यक्रम के तहत यह सुविधा दी जाएगी। हाल में भारत सरकार ने इसे लागू कराने के लिए सभी राज्यों को निर्देश भेजे हैं। उम्मीद की जानी जा रही है कि अगर सभी राज्य इस सेवा को अपने यहां लागू कराते हैं तो हर साल जान गंवाने वाले दो लाख मरीजों को बचाया जा सकता है।

सरकार ने 2016 में इसकी घोषणा की थी। पेरिटोनियल डायलिसिस शरीर के अतिरिक्त द्वव्य को बाहर निकालने की प्रक्रिया है। यह शरीर में बनने वाले विषैले तत्वों को बाहर निकालती है। इस डायलिसिस प्रक्रिया को लागू कराकर सरकार महंगी डायलिसिस प्रक्रिया को गरीब मरीजों की पहुंच में लाना चाहती है।

प्रक्रिया आसान-
मरीज की जांचकर डॉक्टर बताएंगे कि उसे हीमो डायलिसिस की आवश्यकता है या  पेरिटोनियल डायलिसिस की। अगर पेरिटोनियल डायलिसिस की आवश्यकता हुई तो डॉक्टर मरीज के शरीर में कैथेटर ट्यूब डालेंगे। नेफ्रोलॉजिस्ट मरीज व उसके परिवार को इसकी तकनीक से प्रशिक्षत कर देंगे।

मुफ्त सेवा-
आर्थिक रूप कमजोर वर्ग के मरीजों को किट और दवा मुफ्त मिलेगी व अन्य को रियायती दामों पर उपलब्ध होगी।

किट मिलेगी-
मरीजों की पेरिटोनियल डायलिसिस की जाएगी। मरीज को एक पेरिटोनियल किट और दवाएं दी जाएंगी, जिनसे बिना किसी सहायता के डायलिसिस किया जा सकेगा।

56total visits,3visits today

1988759total sites visits.
Hello
Can We Help You?
Powered by