बिहार: मधुबनी-झंझारपुर के पास कमला नदी का बांध टूटा, सैकड़ों लोग फंसे

0Shares

बिहार के हर हिस्से में प्रचंड बारिश ने जमकर कहर बरपाया है. मूसलाधार बारिश ने बिहार के ज्यादातर शहरों को दरिया में तब्दील कर दिया है. भारी बारिश से बिहार में बहनेवाली नदियों में पानी तेजी से बढ़ रहा है जिससे बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है. लगातार बारिश के चलते नेपाल से निकलने वाली नदियां उफान पर हैं. इससे कोसी क्षेत्र में खतरा बढ़ गया है. वहीं, गंगा समेत दूसरी नदियों में बढ़ता पानी खतरे की घंटी बजा रहा है. मधुबनी-झंझारपुर के पास कमला नदी का बांध टूट गया है जिससे सैकड़ों लोग गांव में फंस गए हैं.

किशनगंज और नेपाल के तराई इलाकों में कई दिनों से जारी मूसलाधार बारिश से जिले में बहनेवाली सभी नदियां उफान पर हैं. दर्जनों गांव बाढ़ की चपेट में हैं. शिवहर में जिलाधिकारी (डीएम) और पुलिस अधीक्षक (एसपी) के आवास में पानी घुस गया है. बाढ़ के खतरे को देखते हुए रविवार तक सभी स्कूलों में छुट्टी कर दी गई है.

कोसी नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. जलस्तर के अधिकतम डिस्चार्ज को देखते हुए जल संसाधन विभाग के निर्देश पर कोसी बराज के सभी 56 फाटक खोल दिए गए हैं. बराज पर इंजीनियर की टीम लगातार कैंप कर रही है. खतरे को देखते हुए बराज कंट्रोल रूम के पास लाल बत्ती जला दी गई है. कई हजार लोग विस्थापित बताए जा रहे हैं.

दरभंगा पर खतरा मंडराया

उधर बारिश की मार से बेहाल दरभंगा शहर पर अब बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. बागमती नदी के किनारे बने तटबंध में बड़ी दरार आ गई है जिससे लोग दहशत में हैं. दरअसल, बांध के अचानक धंसने से करीब 200 फीट के इलाके में बांध की दीवार पूरी तरह ध्वस्त हो गई है. ऐसे में पानी बढ़ते ही दरभंगा शहर भीषण बाढ़ की चपेट में आ सकता है. सरकारी तंत्र भी बांध में दरार की खबर मिलते ही एक्शन में आ गया है. यहां तक कि बांध पर सुरक्षाकर्मियों को तैनात कर दिया गया है.

पिछले हफ्ते भर से हो रही मूसलाधार बारिश ने बिहार के ज्यादातर शहरों का हाल बेहाल कर दिया है. बिहार के उत्तरी हिस्सों और नेपाल के तराई क्षेत्रों में हो रही लगातार बारिश के बाद कई नदियों का जलस्तर बढ़ गया है, जिससे राज्य के कम से कम छह जिलों में बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है. इस बीच, राज्य के कई स्थानों पर रेल पटरियों पर पानी चढ़ जाने से रेल यातायात बाधित हुआ है. राज्य में भारी बारिश कोसी और सीमांचल के क्षेत्रों में तबाही लेकर आई है. कोसी के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है, जिससे कई क्षेत्रों में बाढ़ का पानी घुस गया है.

20total visits,1visits today

712712total sites visits.
Hello
Can We Help You?
Powered by